<br />

 

Source : BIOCAD
Wednesday, July 5, 2017 3:55PM IST (10:25AM GMT)
 
बायोकैड का रिटुक्सीमैब बायोसिमिलर भारत में जल्दी ही एमए प्राप्त करेगा
 
Saint Petersburg, Russia & India
सेंट्रल ड्रग्स स्टैंडर्ड कंट्रोल ऑर्गनाइजेशन (सीडीएससीओ) ने 20 जून 2017 को रूस में बने पहले रिटुक्सीमैब बायोसिमिलर ऐसेलबिया (Acellbia, the first rituximab biosimilar) को भारत में मंजूर किए जाने की सिफारिश की है।
 
अगस्त 2017 में बायोकैड को भारत में स्थायी बाजार ऑथोराइजेशन प्राप्त हो जाएगा। यह बायोकैड के अंतरराष्ट्रीय विस्तार की दिशा में एक महत्वपूर्ण उपलब्धि है। 
 
रिटुक्सीमैब के लिए भारतीय बाजार आज $40 मिलियन से ज्यादा का है और इसकी वार्षिक विकास दर 8% है। विशेषज्ञों के अनुसार अगले पांच वर्षों में यह बाजार $58 मिलियन का हो जाएगा।
 
इस बीच, भारत में रिटुक्सीमैब की उपलब्धता कम है। इसलिए, यहां बेचे जाने वाले रूसी बायोसिमिलर से ना सिर्फ यहां के बाजार में प्रतिस्पर्धा बढ़ेगी बल्कि यह उत्पाद ज्यादा संख्या में मरीजों के लिए उपलब्ध भी होगा। यह कुछ खास तरह के लिम्फोमास और ऑटोइम्युन डिसऑर्डर के मरीजों के लिए है। 
 
बायोकैड के सीईओ श्री डीमित्री मोरोजोव ने कहा, “हम अपने पहले बायोसिमिलर औषधि उत्पाद, ऐसलेबिया के लिए भारत में एमए प्राप्त होने पर खुश हैं। पर वहां अपने और उत्पादों को दर्ज कराने की हमारी कोशिशें जारी रहेंगी। 2018 की पहली तिमाही में हमारी योजना बायोकैड के ट्रैसटुजुमैब (trastuzumab) बायोसिमिलर, हार्टिकैड के लिए एमए हासिल करना है। इसका उपयोग कुछ तरह के स्तन कैंसर का उपचार करने के लिए किया जाता है। इसकी आपूर्ति सीरिया, श्रीलंका और अन्य देशों में की जाती है।”
 
एपीआई समेत बायोकैड द्वारा निर्मित ऐसलेबिया की गुणवत्ता का स्पष्ट प्रदर्शन अच्छे-खासे अंतरराष्ट्रीय चिकित्सीय परीक्षणों में हो चुका है। इनमें से कुछ परीक्षण भारत में किए गए थे। ये परीक्षण ईएमए के दिशानिर्देशों के अनुपालन में बायोसिमिलर मोनोक्लोनल एंटीबॉडीज के गैर चिकित्सीय और चिकित्सीय विकास के लिए किए गए थे। इनमें ऐसलेबिया के जैसी कार्यकुशलता और सुरक्षा का प्रदर्शन देखा गया जो एफ. हॉफ्फमैन-ला-रोशे, लिमिटेड के मूल औषधि उत्पाद के साथ एक सिरे से दूसरे तक तुलना में पाया गया।
 
बायोकैड के रिटुक्सीमैब को पहले ही सात देशों में अधिकृत किया गया है। इनमें बोलिविया और होनडुरस शामिल हैं और 27 देशों में पंजीकरण लंबित है।
 
2014 से अब तक रूस और अन्य देशों में 26,000 से ज्यादा मरीजों का उपचार बायोकैड के बनाए रिटुक्सीमैब से किया जा चुका है।
 
भारत के लिए बायोकैड के ऐसलेबिया का पहला शिपमेंट सितंबर 2017 के लिए निर्धारित है।
 
स्रोत रूपांतर businesswire.com पर देखें : http://www.businesswire.com/news/home/20170704005062/en/
 
संपर्क :
बायोकैड
इरिना केन्युखोवा
फोन +7 (812) 3804933, विस्तार 632
ई मेल kenyukhova@biocad.ru

 
 

To ensure that you continue to receive email from Business Wire India in your inbox, please add businesswireindia.com to your Address Book or Safe List.

 
To submit a press release, click here.
To unsubscribe or modify your Business Wire India settings, please visit your profile page on Business Wire India.

Connect with us on: Facebook | Twitter | Google+