<br />

 

Source : Export Development Canada
Tuesday, April 4, 2017 4:45PM IST (11:15AM GMT)
 
एक्सपोर्ट डेवलपमेंट कनाडा ने सिंगापुर में अपनी पहली फाइनेंसिंग शाखा खोलकर भारतीय कंपनियों के लिए नए कर्ज के रूप में लाखों के संकेत दिए
सिंगापुर शाखा ईडीसी को कर्ज बुकिंग में वृद्धि कर 2021 तक 4 अरब अमेरिकी डॉलर वार्षिक करने में सहायता करेगी; भारतीय कंपनियों को उनके व्यापार केंद्रित कारोबार के लिए सिंडिकेटेड फाइनेंसिंग सुविधा के तहत वाणिज्यिक बैंकों के साथ साझेदारी की संभावना; नए शाखा कार्यालय मुंबई, दिल्ली, जकार्ता, बीजिंग और शंघाई में मौजूदा प्रतिनिधित्व की सहायता और उन्हें बेहतर करेंगे
 
Mumbai, Maharashtra, India
कनाडा की डायनैमिक एक्सपोर्ट क्रेडिट एजेंसी, एक्सपोर्ट डेवलपमेंट कनाडा (ईडीसी) ने आज कनाडा के बाहर सिंगापुर में अपनी नई और पहली अंतरराष्ट्रीय शाखा शुरू करने की घोषणा की। 
 
मुंबई और दिल्ली में ईडीसी का विदेशी प्रतिनिधित्व चलता रहेगा और देश में संबंध बनाएगा। हालांकि, ईडीसी की नई शाखा अंतरराष्ट्रीय स्तर के इसके फाइनेंसिंग कारोबार को भारत में कंपनियों और परियोजनाओं के करीब लाएगी और इसके लिए फाइनेंसिंग से संबंधित चर्चा, मोलभाव और उन्हें पूरा करने के काम सिंगापुर से करेगी।  
 
ईडीसी के क्षेत्रीय वाइस प्रेसिडेंट, एशिया बिल ब्राउन कहते हैं, “ईडीसी की नई शाखा भारतीय कंपनियों के लिए वास्तविक समय में लेन-देन प्रोसेस कर सकती है। पहले कनाडा में बैठने वाली हमारी फाईनेंसिंग टीम से कनेक्ट होने में 12 घंटे की देरी हो जाती थी जो अब नहीं होगी।” उन्होंने आगे कहा, “ईडीसी की वित्तीय सेवाएं अब जल्दी और प्रभावी ढंग से पेश की जाती हैं। इससे भारतीय कंपनियों को अच्छा-खासा लाभ होगा।”
 
अक्तूबर 2016 में ईडीसी ने उस समय का पहला ईसीबी रुपी लोन इंफ्रास्ट्रक्चर लीजिंग एंड फाइनेंशियल सर्विसेज (आईएलएंडएफएस) को दिया था और इस तरह, भारतीय कारोबारों की आवश्यकता उनके पसंद की मुद्रा में पूर्ण करने की ईडीसी की प्रतिबद्धता का प्रदर्शन किया गया था।
 
श्री ब्राउन कहते हैं, “ईडीसी अब भारत में यह सेवा ज्यादा कंपनियों को पेश करना चाह रही है। सिंगापुर में नई शाखा भारतीय कॉरपोरेट के लिए ना सिर्फ स्थानीय मुद्रा में फाइनेंस करने को आसान पहुंच में लाने में बड़ी भूमिका निभाएगी बल्कि भारत और कनाडा के बीच होने वाले कारोबार की कुल राशि बढ़ाने में भी इसकी भूमिका होगी।”
 
नई सिंगापुर शाखा के बारे में उम्मीद की जाती है कि यह ईडीसी की लोन बुकिंग को 2021 तक दूना करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी। अनुमान है कि तब तक यह हर साल नई कमर्शियल फाइनेंसिंग में चार अरब अमेरिकी डॉलर से ज्यादा मुहैया कराएगी। ईडीसी का फोकस भारत में ऐसे कॉरपोरेशंस और परियोजना स्वामियों के साथ वित्तीय संबंध का विकास करना होगा जिनके पहले से ही कनाडाई आपूर्तिकर्ता हों या जहां भविष्य में कनाडाई आपूर्ति की संभावना हो। ईडीसी उन मामलों में कनाडाई विदेश निवेश और कनाडा में विदेशी निवेश को भी सपोर्ट कर सकता है जहां कनाडाई निर्यात से सीधा संबंध हो।
 
इसके अलावा, भारत में चुने हुए कॉरपोरेशन के क्लब और सिंडिकेटेड फाइनेंसिंग इकाइयों के तहत ईडीसी वाणिज्यिक बैंकों के साथ साझेदारी के मौकों पर सक्रियता से काम करेगी।
 
श्री ब्राउन ने कहा, “भारत की अर्थव्यवस्था बेजोड़ रफ्तार से बढ़ रही है और भारतीय कंपनियों को विकास की अपनी चाहत और व्यापार केंद्रित कारोबार की जरूरतें पूरी करने के लिए पूंजी की आवश्यकता है। ईडीसी भारतीय कॉरपोरेशन को दीर्घ अवधि की साझेदारी क्षितिज के साथ एक स्थिर, अंतरराष्ट्रीय स्तर की पेशकश करता है। हम ना सिर्फ फाइनेंसिंग मुहैया कराते हैं बल्कि कनाडा की टेक्नालॉजी और सुविज्ञता पेशकश करके हम आपकी कंपनी को लागत कम करने, ज्यादा उत्पादक और ज्यादा अभिनव होने में सहायता कर सकते हैं।”
 
गुजरे पांच वर्षों में ईडीसी ने वित्तीय समाधानों की अपनी पूरी रेंज के जरिए 10 बिलियन सीएडी से ज्यादा की राशि भारतीय और कनाडाई कंपनियों के लिए संभव किए हैं। 
 
भारतीय बाजार में ईडीसी के लिए जो प्रमुख क्षेत्र हैं उनमें संरचना (बिजली और स्वच्छ टेक्नालॉजी समेत), सूचना और संचार टेक्नालॉजी, तेल और गैस, कृषि आहार और परिवहन (एयरोस्पेस और रेल) में अतिरिक्त दिलचस्पी के साथ शामिल हैं।
 
2016 में ईडीसी ने भारत में करीब 340 कंपनियों को सपोर्ट किया जिनकी कनाडा और भारत की कंपनियों तथा उपभोक्ताओं के बीच सीएडी 34 बिलियन के कारोबार में भूमिका थी।
 
कनाडा के लिए भारत एक रणनीतिक बाजार है और ईडीसी के लिए यह कॉरपोरेट प्राथमिकता का भी बाजार है। ईडीसी भारतीय कंपनियों को जिस फाइनेंसिंग की पेशकश करता है उसकी मात्रा उनके पूंजी व्यय के लिए बढ़ाना चाहता है। भले ही यह फाइनेंसिंग सामान्य कॉरपोरेट उद्देश्य से हो या प्रोजेक्ट फाइनेंस के उद्देश्य से।  
 
ईडीसी का मुंबई, दिल्ली, जकार्ता, बीजिंग, शंघाई बोगोटा, रियो डी जनेरियो, साव पॉलो, लिमा, मैक्सिको सिटी, मांटेरी, सैनटियागो, मास्को, जोहानीसबर्ग, दुबई, इस्तांबुल, लंदन और डसलडॉर्फ।
 
ईडीसी के बारे में
 
ईडीसी कनाडा की एक्सपोर्ट क्रेडिट एजेंसी है जो कनाडाई कंपनियों से खरीदने वाली कंपनियों या उन्हें जो अपने कॉरपोरेट मूल्य श्रृंखला में कनाडा से आपूर्ति और सेवा प्राप्त करती है को वित्तीय सेवा मुहैया कराती है। ईडीसी की फाइनेंसिंग का उपयोग कैपेक्स और / या प्रोजेक्ट फाइनेंस की आवश्यकताओं के लिए द्विपक्षीय या सिंडिकेटेड कॉरपोरेट सुविधाओं के जरिए किया जा सकता है। वाणिज्यिक सिद्धातों पर काम करते हुए ईडीसी का साझेदारी – प्राथमिकता वाला दर्शन है कि निजी क्षेत्र की वित्तीय संस्थाओं से गठजोड़ किया जाए ताकि जोखिम साझा करके कनाडाई व्यापारिक लेन-देन के लिए बड़ी क्षमता तैयार हो सके। ईडीसी कॉरपोरेट समाजिक जिम्मेदारी के लिए प्रतिबद्ध है और यह अपने लेने-देन का पर्यावर्णीय तथा सामाजिक प्रभाव का हिसाब रखता है।  
 
स्रोत रूपांतर businesswire.com पर देखें : http://www.businesswire.com/news/home/20170402005024/en/
 
मल्टीमीडिया उपलब्ध है : http://www.businesswire.com/news/home/20170402005024/en/
 
संपर्क करें :
मीडिया की पूछताछ के लिए कृपया संपर्क करें :
एक्सपोर्ट डेवलपमेंट कनाडा (ईडीसी)
एलिसे डेडेकम, +1 (613) 598-3076
ededekam@edc.ca
या
हिल+नोलटन स्ट्रैटेजीज, मुंबई 
कल्याण एस बोस, +91 22 4066 1755
Kalyan.Bose@hkstrategies.com

 
 

To ensure that you continue to receive email from Business Wire India in your inbox, please add businesswireindia.com to your Address Book or Safe List.

 
To submit a press release, click here.
To unsubscribe or modify your Business Wire India settings, please visit your profile page on Business Wire India.

Connect with us on: Facebook | Twitter | Google+